Exams

REET 2021 : यहां दोबारा हो सकती है रीट की परीक्षा, जल्द होगा फैसला

REET 2021 : राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा ( रीट ) 2021 के द्वितीय स्तर की परीक्षा के दौरान अलवर जिले के कमला देवी महाविद्यालय, ढीकवार-मांडल नीमराना परीक्षा केन्द्र पर 26 सितम्बर को प्रश्नपत्र पहुंचने में देरी हुई। रीट परीक्षार्थियों ने प्रश्न पत्रों के वितरण करते समय देरी के कारण विरोध किया और परीक्षा केंद्र में बैठे रहने के बावजूद बहिष्कार किया। इस मामले की लिखित रिपोर्ट आने पर इस केंद्र पर आवंटित 600 परीक्षार्थियों की फिर से परीक्षा करवाने का निर्णय सक्षम कमेटी द्वारा लिया जाएगा। दोपहर के प्रथम स्तर की परीक्षा इस केंद्र पर शांतिपूर्ण संपन्न हुई है।

राजस्थान के अन्य जिलों में रीट परीक्षा दो पारियों में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच संपन्न हुई। परीक्षा में नकल रोकने के लिये कुछ जिलों में इंटरनेट सेवाओं को निलंबित रखा गया। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित परीक्षा के लिये राज्य के सभी 33 जिलों में कुल 3,993 परीक्षा केन्द्र बनाए गए थे।  इस परीक्षा के लिये 16.51 लाख उम्मीदवारों ने पंजीकरण कराया था।

बीकानेर में शिक्षकों के चयन के लिये आयोजित परीक्षा में कथित तौर पर नकल करने की कोशिश करने के आरोप में ब्लूटूथ उपकरण से लैस चप्पलों के साथ पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया। राज्य के विभिन्न जिलों से कई अन्य डमी उम्मीदवारों को गिरफ्तार किया गया।
     
इसके साथ ही पुलिस के दो हेड कांस्टेबल और एक कांस्टेबल को धोखाधड़ी में कथित रूप से शामिल होने के आरोप में निलंबित कर दिया गया।
     
परीक्षा में नकल व धोखाधडी के मामलें में पुलिस ने दौसा और जयपुर ग्रामीण में चार लोगों को  जबकि बीकानेर, अजमेर, प्रतापगढ,सीकर, भरतपुर, और जोधपुर में धोखाधडी मामलें में शामिल गिरोह का भंडाफोड कर आठ लोगो को गिरफ्तार किया। सवाईमाधोपुर में भी धोखाधड़ी के मामलें सामने आए ,जहां दो पुलिस कर्मियों की संलिप्तता सामने आई।
     
बीकानेर पुलिस अधीक्षक प्रीति चंद्रा ने कहा कि गंगशहर थाना क्षेत्र में परीक्षा में नकल करने की कोशिश में शामिल पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों में तीन रीट परीक्षा के उम्मीदवार थे जिन्हें एक सिम कार्ड से जुडे एक छोटे कालिंग डिवाइस लगे हुए चप्पल पहने पाया गया।
     
उन्होंने बताया कि उम्मीदवारों के कान में एक ऐसा छोटा ब्लूटूथ उपकरण लगाया गया था जो दिखाई नहीं दे रहा था। गिरोह के सदस्यों में शामिल गिरफ्तार दो आरोपी वो हैं जिन्होंने प्रत्येक उम्मीदवारों को छह लाख रुपये में चप्पल उपलब्ध कराई थी।
     
उन्होंने बताया कि दोनों आरोपियों को परीक्षा से पूर्व बस स्टैंड से पकड़ा गया था। जांच के दौरान चप्पल और अन्य उपकरण बरामद किये गये। मुख्य आरोपी और गिरोह का नेता तुलसाराम क्लेर फरार है। 
     
चंद्रा ने बताया कि गिरफ्तारी के बाद अन्य जिलों की पुलिस को सर्तक किया गया।
     
एक अन्य व्यक्ति को बीकानेर के जयनारायण व्यास कालोनी पुलिस थाना क्षेत्र से पकडा गया। बीकानेर पुलिस की सूचना पर दो उम्मीदवारों को प्रतापगढ़ से और एक-एक उम्मीदवार को सीकर और अजमेर से गिरफ्तार किया गया।
    
वहीं,अलवर जिले के एक परीक्षा केन्द्र पर पहली पारी की परीक्षा में देरी होने पर उम्मीदवारों ने आपत्ति जताई। भिवाड़ी के पुलिस अधीक्षक राम मूर्ति जोशी ने बताया कि परीक्षा देरी से शुरू हुई क्योंकि केन्द्र पर प्रश्नपत्र समय पर उपलब्ध नहीं करवाये गये थे।    उन्होंने बताया कि माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा एक केन्द्र पर पहली पारी की परीक्षा दोबारा करवाई जायेगी।
     
सिरोही पुलिस अधीक्षक धर्मेन्द्र ने बताया कि रीट परीक्षा में धोखाधड़ी में शामिल होने पर सिरोह के कालांदरी पुलिस थाने में तैनात कांस्टेबल शैतानाराम को निलंबित कर दिया गया है।
     
उन्होंने बताया कि कांस्टेबल पर कार्रवाई उसके मोबाइल में काल रिकार्डिंग और व्हाट्सएप बातचीत सामने आने के बाद की गई।
     
सवाईमाधोपुर में रीट परीक्षा में नकल में मदद करने के आरोप में हेड कांस्टेबल यदुवीर सिंह और कांस्टेबल देवेन्द्र सिंह को पकड़ा गया। पुलिस सूत्रों के अनुसार दोनों को निलंबित कर दिया गया है।

Related Articles

Back to top button