Exams

JAC Board Exam 2022 : 7 दिसंबर से शुरू होगी मैट्रिक टर्म-1 की परीक्षा, 9 दिसंबर से इंटर एग्जाम

JAC Board Term Exam 2022 : राज्य में मैट्रिक टर्म-1 की परीक्षा 7 दिसंबर से शुरू हो सकेगी, जबकि इंटरमीडिएट के पहले टर्म की परीक्षा 9 दिसंबर से शुरू हो सकेगी। झारखंड एकेडमिक काउंसिल इसकी तैयारी कर रहा है। अगले सप्ताह तक परीक्षा की तारीख की औपचारिक घोषणा कर दी जाएगी।

मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाएं दो टर्म में होनी है। पहले टर्म की तैयारी को लेकर सभी प्रखंडों में परीक्षा केंद्र बनाए जा रहे हैं। इसके लिए सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों से प्रखंड स्तर पर परीक्षा केंद्र निर्धारित कर सूची मांगी गई है। इसी आधार पर बच्चों को स्कूलों के नजदीक के परीक्षा केंद्र में ही भेजा जाएगा, ताकि उन्हें परीक्षा के लिए ज्यादा दूरी तय नहीं करनी पड़े।

वर्तमान में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षा के लिए फॉर्म भरवाए जा रहे हैं। 13 नवंबर तक आवेदन करने की अंतिम तिथि थी, वहीं विलंब शुल्क के साथ 20 नवंबर तक आवेदन लिए जाएंगे। इसके बाद जैक परीक्षा की तिथि की घोषणा करेगा। मैट्रिक की परीक्षा के लिए 2 दिन और इंटरमीडिएट की परीक्षा के लिए 3 दिन समय दिया जा सकता है। ऐसे में 7 और 8 दिसंबर को मैट्रिक की परीक्षा होगी, जबकि 9 से 11 दिसंबर को इंटरमीडिएट की परीक्षाएं होंगी।

छठे विषय की भी होगी परीक्षा
मैट्रिक में पांच अनिवार्य विषय के साथ-साथ छठे विषय की भी परीक्षा होगी, इसकी तैयारी भी चल रही है। पहले टर्म में सभी विषयों की परीक्षा 50-50 अंकों की होगी। ओएमआर शीट पर होने वाली मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षा में 40-40 अंक के प्रश्न पूछे जाएंगे। बाकी 10-10 अंक स्कूल की ओर से इंटरनल एसेसमेंट के रूप में दिए जाएंगे। इस परीक्षा में ऑब्जेक्टिव प्रश्न पूछे जाएंगे। झारखंड शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद ने पूर्व में ही मैट्रिक और इंटरमीडिएट के 5-5 मॉडल प्रश्न पत्र जारी कर दिए हैं। उसके आधार पर स्कूलों में छात्र-छात्राओं को तैयारी कराई जा रही है। साथ ही, छात्र-छात्रा भी घर पर इसका अभ्यास कर रहे हैं।

2020 में नहीं हुई थी मैट्रिक और इंटर की परीक्षा
कोरोना की वजह से मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षा 2020 में आयोजित नहीं हो सकी थी। इसकी वजह से छात्र-छात्राओं को उनके नौवीं और 11वीं के रिजल्ट के आधार पर पास किया गया और अंक दिए गए। हालांकि रिजल्ट में जो छात्र-छात्रा पास नहीं कर सके और जो अपना रिजल्ट सुधारना चाहते थे, उनके लिए विशेष परीक्षा का आयोजन किया गया। इस बार राज्य सरकार ने दो टर्म में परीक्षा लेने का निर्णय लिया है। इसके लिए संशोधित किए गए 25 फीसदी सिलेबस के बाद बचे 75 फीसदी सिलेबस को भी आधे-आधे में बांटा गया है। संशोधित सिलेबस के आधे में से पहले टर्म की परीक्षा आयोजित की जा रही है, जबकि आधे सिलेबस से दूसरे टर्म की परीक्षा होगी। दूसरे टर्म की परीक्षा 10 से 25 मार्च के बीच होगी। इसमें अति लघु उत्तरीय, लघु उत्तरीय, दीर्घ उत्तरीय प्रश्न पूछे जाएंगे। छात्र-छात्राओं के इसके लिखित रूप में जवाब देने होंगे।

Related Articles

Back to top button