Exams

मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति लागू, कॉलेजों व विश्वविद्यालयों की पढ़ाई में होंगे ये बदलाव

मध्य प्रदेश में नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति लागू कर दी गई है। इस साल ग्रेजुएशन में जो दाखिले होंगे, वह राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत ही पढ़ेंगे। उनका सिलेबस इसी के हिसाब से होगा। प्रदेश में नई शिक्षा नीति लागू होने के बाद सर्टिफिकेट एक साल, डिप्लोमा दो साल और डिग्री तीन साल में मिल जाएगी। मल्टीपल एंट्री एग्जिट सिस्टम और च्वॉइस बेस्ड क्रेडिट सिस्टम भी लागू होगा। सेकेंड व अगले वर्ष के छात्रों के लिए इसे चरणबद्ध तरीके से लागू किया जाएगा।

एमपी में एनईपी लागू होने के बाद होंगे ये मुख्य बदलाव

– एक व्यावसायिक पाठ्यक्रम, अनिवार्य विषय के रूप में आधार पाठ्यक्रम के साथ ही इंटर्नशिप/प्रोजेक्ट/अप्रेंटिसशिप।

– तीन वर्ष में स्नातक और एक वर्ष बाद डिग्री विद रिसर्च और च्वॉइस बेस्ड क्रेडिट सिस्टम।

– भारतीय ज्ञान परंपरा का पाठ्यक्रम में समावेश, शोध प्रविधि एवं स्नातक शोध प्रबंध और प्रत्येक विद्यार्थी को ऑनर्स पाठ्यक्रम करने का अवसर।

 

 

 

 

 

– स्नातक चतुर्थ वर्ष में तीन मुख्य प्रश्न पत्र। 
शोध प्रवधि, स्नातक शोध प्रबंध के साथ ही इंटर्नशिप/प्रोजेक्ट/अप्रेंटिसशिप।

– स्नातक पाठ्यक्रम में एक मुख्य, एक गौण और एक वैकल्पिक विषय।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि राज्य विश्वविद्यालयों में सब्जेक्टिव कोर्सेज के साथ साथ स्किल कोर्स भी होंगे। 



Related Articles

Back to top button