Jobs

सहायक अध्यापकों के 17 हजार पदों पर भर्तियां होंगी, राजकीय इंटर कॉलेजों के लिए सृजित हुए 1947 पद

शिक्षक बनने की आस लगाए बैठे युवाओं के लिए अच्छी खबर। राज्य सरकार ने सरकारी प्राइमरी स्कूलों में रिक्त लगभग 17 हजार सहायक अध्यापकों की भर्ती करने का ऐलान किया है।

बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. सतीश चन्द्र द्विवेदी ने शुक्रवार को बताया कि राज्य सरकार ने 68500 और 69000 शिक्षक भर्ती के रिक्त पड़े 17 हजार पदों पर नई भर्ती करने का फैसला किया है। 2018 जनवरी में 68500 और दिसम्बर 2018 में 69000 शिक्षक भर्ती शुरू हुई थीं। इनमें 68500 में लगभग 45 हजार और 69 हजार शिक्षक भर्ती में लगभग 68 हजार शिक्षक भर्ती हुए हैं। इसके बाद भी 17 हजार पद रिक्त रह जाएंगे। सुप्रीम कोर्ट ने शिक्षामित्रों का समायोजन रद्द करते हुए 2017 में 1.37 लाख पदों को भरने का आदेश दिया था। इसी क्रम में रिक्त पदों को भरने का फैसला लिया गया है।

राज्य सरकार 23 जनवरी को टीईटी कराने जा रही है। इसके बाद शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा हो सकती है। टीईटी पास अभ्यर्थी ही इस परीक्षा के लिए अर्ह होंगे।

आरक्षण विवाद सुलझा

  • 69 हजार शिक्षक भर्ती में लगभग डेढ़ साल से चल रहे आरक्षण के विवाद को सुलझा लिया गया है। इनमें आरक्षित वर्ग के प्रभावित अभ्यर्थियों के लिए छह हजार पदों पर भर्ती की प्रक्रिया शुक्रवार से शुरू कर दी गई। आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों की चयन सूची 28 दिसम्बर तक तैयार होगी। चयनित अभ्यर्थियों की सूची 30 दिसम्बर को जारी होगी।

राजकीय इंटर कॉलेजों के लिए सृजित हुए 1947 पद

  •  माध्यमिक शिक्षा विभाग ने 84 राजकीय इंटर कॉलेजों के लिए 1947 शिक्षकों व शिक्षणेत्तर कर्मचारियों के पद सृजित कर दिए हैं। इनमें 35 स्कूल मुख्यमंत्री की घोषणा के तहत बने हैं और 49 स्कूल अल्पसंख्यक विभाग की प्रधानमंत्री जनविकास योजना के तहत बने हैं। राजकीय इंटर कॉलेजों में प्रति कॉलेज 10 यानी कुल 780 प्रवक्ता के पदों का सृजन किया गया है।

Related Articles

Back to top button