Jobs

प्रारंभिक शिक्षा विभाग में लेवल-1 और 2 के 8000 अध्यापक समेत 10000 पद सृजित: बीडी कल्ला

शिक्षा मंत्री डॉ. बी डी कल्ला ने मंगलवार को प्रारंभिक शिक्षा स्टाफिंग पुनर्निर्धारण 2021 को लांच किया। डॉ. कल्ला ने कहा कि प्रारंभिक शिक्षा में विद्यालयों में हुई अभूतपूर्व नामांकन वृद्धि के अनुसार शिक्षकों की उपलब्धता सुनिश्चित करने हेतु स्टाफिंग पैटर्न का पुनर्निर्धारण कर विद्यालय वार पद आवंटित किए गए हैं। उन्होंने बताया कि शिक्षा विभाग के शाला दर्पण पोर्टल पर ऑनलाइन हुई इस प्रक्रिया में विभाग में 10,000 से अधिक पद सृजित हुए हैं जिनमें लगभग 8000 लेवल वन और टू अध्यापक के पद, 124 वरिष्ठ अध्यापक के पद तथा 2232 शारीरिक शिक्षक के पद सम्मिलित हैं। 

डॉ. कल्ला ने बताया की पुराने दिशा-निर्देशों में संशोधन कर तृतीय भाषा पढ़ने के इच्छुक 10 से अधिक विद्यार्थी होने पर विद्यालय में तृतीय भाषा के शिक्षक का अतिरिक्त पद आवंटित किया गया है। साथ ही पुराने प्रावधान को बदलकर 120 की जगह 105 नामांकन वाले उच्च प्राथमिक विद्यालय में शारीरिक शिक्षक का पद आवंटित किया गया है। 

पूजा चौधरी RSOS 10वीं रिजल्ट में बनीं टॉपर:
शिक्षा मंत्री ने राजस्थान स्टेट ओपन स्कूल कक्षा 10 व 12 का परिणाम भी घोषित किया। डॉ. कल्ला ने कहा की अक्टूबर-नवंबर माह में आयोजित हुई इन परीक्षाओं में 10वीं और 12वीं दोनों कक्षाओं में महिला परीक्षार्थियों का परिणाम पुरुषों से ज्यादा रहा जो की एक सुखद बदलाव का संकेत है। डॉ. कल्ला ने बताया कक्षा 10 के परिणामों में महिलाओं का रिजल्ट 39.27 प्रतिशत रहा तथा पुरुषों का 35.42 प्रतिशत तथा 12वीं की परीक्षा में महिलाओं का परिणाम 66.25 प्रतिशत रहा जबकि पुरुषों का 61.67 प्रतिशत रहा। गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष के 10वीं और 12वीं के परिणाम क्रमशः 2.67 प्रतिशत तथा 19.15 प्रतिशत अधिक रहा जो विभाग के लिए हर्ष का विषय है। 

डॉ. कल्ला ने स्टेट ओपन की 10वीं की परीक्षा में टॉप करने वाली विद्यार्थी व मीरा पुरस्कार हेतु नामित छात्रा पूजा चौधरी से फोन पर बात कर उन्हें बधाई दी तथा उजवल्ल भविष्य हेतु अपनी शुभकामनाएं दीं। साथ ही डॉ. कल्ला ने नवोन्मेष हेतु विद्यार्थियों को दिए जाने वाले इंस्पायर अवार्ड में राज्य के देशभर में प्रथम आने पर सभी विद्यार्थियों को बधाई दी। शिक्षा राज्यमंत्री जाहिदा खान ने कहा राजस्थान स्टेट ओपन स्कूल के इतिहास में पहली बार दसवीं और बारहवीं का रिजल्ट एक साथ तैयार करने के लिए विभाग के अधिकारी बधाई के पात्र हैं तथा ओपन स्कूल के परिणामों में महिलाएं आगे रही हैं जो इस बात को संकेत करता महिला सशक्तिकरण हो रहा है।

शिक्षा विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पवन कुमार गोयल ने स्टेट ओपन स्कूल के सरल व लचीले पैटर्न की प्रशंसा करते हुए कहा की कोरोना काल में स्टेट ओपन स्कूल की उपादेयता और अधिक बढ़ गई है। साथ ही गोयल ने कहा की बदले हुए शैक्षिक वातावरण का ही परिणाम है कि 10,000 से अधिक विद्यार्थी राज्य के इंस्पायर अवार्ड के लिए चुने गए हैं तथा राज्य लगातार तीसरी बार देशभर में प्रथम रहा है । कार्यक्रम में माध्यमिक शिक्षा निदेशक कानाराम, समग्र शिक्षा के राज्य परियोजना निदेशक डॉ. भंवरलाल सहित विभाग के सभी आला अधिकारी उपस्थित रहे।

Related Articles

Back to top button